समाचार और घटनाक्रम

एनएमईटी का प्रथम त्रिपक्षीय समझौता हस्ताक्षरित

मिनरल एक्सप्लोरेशन कार्पोरेशन लिमिटेड (एमईसीएल), महाराष्ट्र सरकार और नेशनल मिनरल एक्सप्लोरेशन ट्रस्ट (एनएमईटी) ने नागपुर में दि. 24.5.16 को महाराष्ट्र राज्य में खनिज गवेषण हेतु त्रिपक्षीय समझौते पर हस्ताक्षर किया। इस करार का डाॅ. गोपाल धवन, अध्यक्ष-सह-प्रबंध निदेशक, एमईसीएल और श्री आर.एस. कलमकर, निदेशक, डीजीएम, महाराष्ट्र सरकार के बीच आदान-प्रदान किया गया।

इस समझौते के अधीन एमईसीएल महाराष्ट्र राज्य में खनिज (खनिज तत्वों के साक्ष्य) नियम, 2015 के अनुसार खनिज गवेषण करेगा। खनिज (नीलामी) नियम, 2015 के अनुसार खनन रियायतों के लिए महाराष्ट्र सरकार द्वारा नीलामी हेतु गवेषित खण्डों को प्रस्तुत किया जाएगा। यह राज्य में खनिज गवेषण की गति को बढ़ाएगा। एमईसीएल नागपुर जिले में मैंगनीज ओर हेतु मांदरी-पंचाला और लांजरा-फुटाला ब्लाॅकों में गवेषण कार्य हाथ में ले रहा है। इन ब्लाकों में गवेषण की लागत की निधि का वहन एनएमईटी द्वारा किया जाएगा।

इसी तरह के समझौते अन्य राज्य सरकारों के साथ भी खनिज गवेषण गतिविधियों के लिए हस्ताक्षरित किए जाएंगे। एनएमईटी का भारत सरकार द्वारा एमएमडीआर संशोधन अधिनियम, 2015 से गठन हुआ है जिसके अधीन एमईसीएल गवेषण कार्य के लिए नोडल एजेंसी के रूप में घोषित की गई है।


© Copy right MECL 2014. All Rights Reserved.